टॉप न्यूज़बिहारराजनीतिराज्य

महागठबंधन की सीट कांग्रेस के खाते में,दरभंगा में ठाकुर बनाम झाजी तो नहीं! लोकसभा क्षेत्र में बड़ा गेम करने के मूड में महागठबंधन!

निशांत झा की विशेष रिपोर्ट :

भारत वीकली@ पटना : वर्ष १९८० में दरभंगा से कॉंग्रेस (इंदिरा) के हरिनाथ मिश्र सांसद चुने गए थे। यहाँ से कॉंग्रेस की यह आख़िरी जीत थी।

वर्ष २०१४ के चुनाव में जदयू और भाजपा ने अलग अलग चुनाव लड़ा था। जदयू से संजय झा मैदान में थे। २०१९ में जदयू और भाजपा साथ चुनाव लड़े। भाजपा से दरभंगा में ब्राह्मण समाज से गोपाल जी ठाकुर जीते जबकि महागठबंधन से राजद के अब्दुल बारी सिद्धिकी की बुरी तरह हार हुई।

इसबार महागठबंधन में दरभंगा सीट कॉंग्रेस के खाते में जाने की उम्मीद है। इसबार महागठबंधन किसी ब्राह्मण को मैदान में उतारने की तैयारी कर रही है।

कॉंग्रेस के एक नेता ने नाम नहीं छापने के शर्त पर कहा कि यहाँ से बिहार कॉंग्रेस के पूर्व अध्यक्ष मदन मोहन झा का नाम सामने आ रहा है। लालू यादव ने ही कॉंग्रेस को मदन मोहन झा के नाम पर प्रस्ताव दिया है। मदन मोहन झा काफ़ी सुलझे हुए नेता हैं। डॉ झा जमीन से जुड़े हुए नेता हैं और पुराने कॉंग्रेसी के रूप में इनकी पहचान है। पूर्व में महागठबंधन की सरकार में राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री रह चुके हैं। वर्तमान में दरभंगा शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से विधानपरिषद हैं। मोदी लहर में भी डॉ मदन मोहन झा ने विधानपरिषद चुनाव में भाजपा के प्रत्याशी सुरेश राय को ६८९ मतों के अंतर से हराया।

विज्ञापन

वहीं भाजपा के सांसद गोपाल जी ठाकुर भी पूरे चुनावी मूड में हैँ। गोपाल जी ठाकुर भी जमीनी नेता के तौर पर जाने जाते हैं। इनका भी पांच वर्ष का कार्यकाल स्वर्णिम माना जा रहा है। डॉ ठाकुर भी सुलझे हुए नेता हैँ।

महागठबंधन भी इसबार एक एक सीट पर बेहतर प्रत्याशी को चुनावी मैदान में उतारने की तैयारी कर रही है। सूत्रों की माने तो सोशल इंजीनियरिंग व जातिय समीकरण के हिसाब से दरभंगा से भाजपा के गोपाल जी ठाकुर के मुकाबले कॉंग्रेस के मदन मोहन झा को चुनावी मैदान में उतारने की बात अंदरखाने में चल रही है।

विज्ञापन

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button