बिहारराजनीतिराज्यलोकल न्यूज़

बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर सामाजिक समरसता के अमर पुरोधा थे: गोपाल जी

भारत वीकली , संवाददाता : बुधवार को भारतीय संविधान के शिल्पकार भारतरत्न बाबासाहेब डॉ भीमराव आंबेडकर जी की 68वीं पुण्यतिथि और महापरनिर्वाण दिवस पर दरभंगा सांसद डॉ. गोपाल जी ठाकुर ने श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब सामाजिक समरसता के अमर पुरोधा थे, जिन्होंने शोषितों और वंचितों के कल्याण के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया।

सांसद डॉ. ठाकुर ने कहा कि बाबा साहेब सामाजिक न्याय के अग्रदूत थे, जिन्होंने वंचितों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने का काम किया ताकि सामाजिक, आर्थिक ,शैक्षणिक एवं राजनैतिक उन्नति के साथ उनकी समान भागीदारी सुनिश्चित हो सके। उन्होंने कहा कि डॉ. आंबेडकर ने गरीबों के उत्थान के साथ साथ शिक्षित, संगठित और संघर्षशील समाज की कल्पना की थी, जिसमें महिलाओं का उत्थान भी निहित था।

सांसद श्री ठाकुर ने कहा कि बाबा साहेब एक प्रमुख भारतीय विधिवेत्ता, अर्थशास्त्री, समाज सुधारक और राजनीतिज्ञ थे। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब ने भारत को एक ऐसा प्रगतिशील व सर्वसमावेशी संविधान दिया जिसने पूरे देश को एकता के सूत्र में बांधने के साथ-साथ देश के हर नागरिक को अपना जीवन संवार कर देश के विकास में भागीदार बनने की प्रेरणा दी, उनके विचार व आदर्श सदैव हम सभी को प्रेरित करते रहेंगे।

श्री ठाकुर ने कहा कि समावेशी और समतावादी समाज के दृष्टिकोण के साथ बाबा साहेब ने अपना पूरा जीवन जाति-आधारित भेदभाव के विरुद्ध लड़ाई तथा सामाजिक न्याय के लिये संघर्ष में अर्पित कर दिया। उन्होंने कहा कि बाबा साहब ने संविधान के माध्यम से इस देश को समानता, समरसता और बंधुत्व के भावना में जोड़ने का कार्य किया।

सांसद गोपाल जी ठाकुर ने कहा कि देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र भाई मोदी जी के नेतृत्व में “सबका साथ, सबका विकास, सबका प्रयास, सबका विश्वास” के मंत्र के साथ भाजपा सरकार बाबा साहेब के परिकल्पना को पूरा कर रही हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button